Bombay HC to hear Sushant Singh Rajput’s sisters’ plea seeking quashing of FIR against them | सुशांत की बहनों की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई आज, रिया चक्रवर्ती ने दर्ज करवाई है एफआईआर

0
26


मुंबई15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अपनी बहन मितु सिंह(बाएं) और प्रियंका सिंह(दाएं) के साथ सुशांत सिंह राजपूत।इनसेट में रिया चक्रवर्ती।

  • रिया ने कहा था कि गैरकानूनी रूप से दावा देने का यह मामला एनडीपीएस एक्ट में आता है
  • एक्ट्रेस ने कहा था कि डिस्क्रिप्शन दिल्ली की ओपीडी का है जबकि सुशांत उस दिन मुंबई में मौजूद थे

एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती द्वारा बांद्रा पुलिस स्टेशन दर्ज करवाई गई एफआईआर को रद्द करने की मांग को लेकर सुशांत की बहन प्रियंका और मीतू सिंह की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट आज दोपहर सुनवाई करेगा। जस्टिस एस एस शिंदे और जस्टिस एम एस कार्णिक की बेंच ने 6 अक्टूबर को इस मामले से संबंधित याचिका पर विचार किया और फिर इसे आज सुनवाई के लिए लिस्ट किया था।

रिया ने अपनी गिरफ्तारी से पहले राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टर तरुण कुमार और सुशांत की दोनों बहनों के खिलाफ केस दर्ज कराया था। इन तीनों पर फर्जी मेडिकल प्रिस्क्रिप्शन बनाकर सुशांत के लिए दवा देने का आरोप लगाया गया है।

रिया ने अपनी कंप्लेंट में यह कहा था

रिया ने अपनी शिकायत में कहा कि डॉक्टर कुमार ने प्रियंका के कहने पर बिना सुशांत की जांच किए उन्हें डिप्रेशन की दवाएं दी थीं जो कई तरह से कानून का उल्लंघन है। रिया ने शिकायत में कहा कि डिस्क्रिप्शन दिल्ली की ओपीडी का है जबकि सुशांत उस दिन मुंबई में मौजूद थे। रिया ने कहा था कि गैरकानूनी रूप से दावा देने का यह मामला एनडीपीएस एक्ट में आता है।

रिया ने बहन पर लगाया यह आरोप

रिया ने अपनी एफआईआर में कहा था कि 8 जून की सुबह जब वो सुशांत के घर में थी, तब सुशांत लगातार किसी से फोन पर चैट कर रहा था। जब उसने इस बारे में सुशांत से पूछा, तो सुशांत ने अपनी बहन के साथ फोन पर हो रही ये चैट उसे दिखाई, जिसमें उनकी बहन प्रियंका दिल्ली में बैठे-बैठे अपनी तरफ से सुशांत को साइकोट्रोपिक ड्रग लेने की सलाह दे रही थीं। वो भी किसी ऐसे डॉक्टर के हवाले से, जिसने सुशांत को मरीज के तौर पर कभी देखा ही नहीं था।

सुशांत की बहनों की बचाव में दलील

अधिवक्ता माधव थोराट के जरिए दाखिल की गई याचिका में प्रियंका सिंह ने दावा किया है कि शिकायत पूरी तरह से डॉक्टर की लिखी दवाओं पर आधारित है, इसलिए उन्होंने कोई जुर्म नहीं किया है। सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के मद्देनजर रिया के मुकदमे को खारिज किया जाना चाहिए।

सीबीआई द्वारा एक्शन लेने से रोक की लगाई गुहार

अधिवक्ता माधव थोराट ने कहा कि सुशांत की बहन ने सीबीआई को उनके खिलाफ कोई ठोस कदम उठाने से प्रतिबंधित करने के लिए अंतरिम आदेश देने की भी मांग की है। मुंबई पुलिस ने इस केस को दर्ज कर इससे जुड़ी जांच सीबीआई के हाथ में सौंप दी है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here