Indias economy will contract by 10.3% this year due to coronavirus pandemic: IMF – IMF का अनुमान, 2020 में भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में आएगी 10.3% की गिरावट लेकिन 2021 में आएगा जबर्दस्‍त उछाल

0
27


प्रतीकात्‍मक फोटो

खास बातें

  • इस वर्ष वैश्विक अर्थव्यवस्था में 4.4% की गिरावट का अनुमान
  • 2021 में भारतीय इकोनॉमी दर्ज करेगी 8.8% की जोरदार बढ़त
  • चीन को पछाड़ तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्‍यवस्‍था का दजो हासिल करेगा भारत

वॉशिंगटन:

Covid-19  Pandemic: कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) में इस वर्ष के दौरान 10.3 प्रतिशत की बड़ी गिरावट आने का अनुमान है. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने मंगलवार को यह बात कही. वहीं, इस दौरान विश्व अर्थव्यवस्था (World Economy) में 4.4 प्रतिशत की गिरावट और 2021 में 5.2 प्रतिशत की जोरदार वृद्धि के साथ आगे बढ़ने का अनुमान व्यक्त किया गया है. हालांकि, इसके साथ ही IMF ने कहा है कि 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था में संभवत: 8.8 प्रतिशत की जोरदार बढ़त दर्ज की जायेगी और वह चीन को पीछे छोड़ते हुये तेजी से बढ़ने वाली उभरती अर्थव्यवस्था का दर्जा फिर से हासिल कर लेगी. चीन के 2021 में 8.2 प्रतिशत वृद्धि हासिल करने का अनुमान है. 

यह भी पढ़ें

राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा-अर्थव्‍यवस्‍था तीन कार्यों से तबाह हुई..

आईएमएफ ने अपनी ‘विश्व आर्थिक परिदृश्य’ पर जारी ताजा रिपोर्ट में ये अनुमान व्यक्त किये हैं. ये रिपोर्ट आईएमएफ और विश्व बैंक की सालाना वार्षिक बैठक से पहले जारी की गई है. इसमें कहा गया है कि 2020 में वैश्विक अर्थव्यवस्था में 4.4 प्रतिशत की गिरावट आयेगी और 2021 में यह 5.2 प्रतिशत की जोरदार वृद्धि हासिल करेगी. रिपोर्ट के मुताबिक 2020 में अमेरिका की अर्थव्यवस्था में 5.8 प्रतिशत गिरावट आने का अनुमान है जबकि अगले वर्ष इसमें 3.9 प्रतिशत की वृद्धि होगी. वर्ष 2020 के दौरान दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में केवल चीन ही एकमात्र देश होगा जिसमें 1.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की जायेगी. 

नाकाबिल लोगों के हाथ में होने से भारत की अर्थव्यवस्था भारी संकट में है : चिदंबरम

आईएमएफ ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि आर्थिक गतिविधियों के मामले में अनुमान में संशोधन भारत के मामले में बड़ा है जहां सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में दूसरी तिमाही (अप्रैल- जून, भारत के वित्त वर्ष के मुताबिक पहली तिमाही) के दौरान अनुमान से कहीं बड़ी गिरावट रही है. रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘इसके परिणामस्वरूप अर्थव्यवसथा के 2020 में 10.3 प्रतिशत घटने का अनुमान है जबकि 2021 में इसमें 8.8 प्रतिशत वृद्धि के साथ बड़ा उछाल आयेगा.” इससे पहले 2019 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 4.2 प्रतिशत रही.आईएमएफ के मुताबिक जलवायु परिवर्तन से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले देशों में भारत शामिल है. यह इसके शुरुआती उच्च तापमान को परिलक्षित करता है. पिछले सप्ताह विश्व बैंक ने कहा कि भारत की जीडीपी इस वित्त वर्ष में 9.6 प्रतिशत घटेगी. विश्व बैंक ने दक्षिण एशिया आर्थिक रिपोर्ट में यह अनुमान व्यक्त किया.

त्योहारों से पहले सरकार ने बाजार की मंदी को दूर करने के लिए उठाया कदम

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here