Mahalaya 2020 navratri durga puja mahalaya Amavasya date significance history and celebrations

0
27


Navratri 2020 Fasting Tips: नवरात्रि व्रत के दौरान प्रेग्नेंट महिलाएं इन बातों का जरूर रखें ध्यान

कब है महालया?

पितृ पक्ष की आखिरी श्राद्ध तिथि को महालया पर्व मनाया जाता है. हिन्‍दू पंचांग के अनुसार अश्विन मास के कृष्‍ण पक्ष की अंतिम तिथि यानी अमावस्‍या को महालया अमावस्‍या (Mahalaya Amavasya 2020) कहा जाता है. पितृ पक्ष में महालया अमावस्या सबसे मुख्य दिन होता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार महालया पर्व हर साल सितंबर या अक्‍टूबर के महीने में मनाया जाता है. लेकिन, इस साल दुर्गापूजा कुछ अलग होगी. आमतौर पर महालया के दूसरे दिन यानी पितर तर्पण के बाद से ही देवी पाठ की शुरुआत हो जाती है.

लेकिन इस साल महालया के एक माह के बाद यानी 17 अक्टूबर से दुर्गापूजा की शुरुआत हो रही है. वहीं, विजयादशमी 26 अक्टूबर को मनायी जाएगी. हर वर्ष महालया, सर्व पितृ अमावस्‍या के दिन ही होता है. हिन्दू शास्त्रों में दुर्गापूजा आश्विन माह के शुक्ल पक्ष में होती है लेकिन इस बार दो अश्विन माह हैं. एक शुद्ध तो दूसरा पुरुषोत्तम यानी अधिक मास. 18 सितंबर से 16 अक्टूबर तक अधिक मास है. वहीं, 17 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक शुद्ध आश्विन माह होगा. इस दौरान ही 17 अक्टूबर से 26 अक्टूबर तक मां दुर्गा की पूजा की जाएगी.

Navratri 2020: अगर आप भी पहली बार नवरात्रि के व्रत रखने जा रहे हैं तो एक नजर डालें इन टिप्स पर

क्या है महालया का इतिहास?

पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार ब्रह्मा, विष्‍णु और महेश ने अत्‍याचारी राक्षस महिषासुर के संहार के लिए मां दुर्गा का सृजन किया. महिषासुर को वरदान मिला हुआ था कि कोई देवता या मनुष्‍य उसका वध नहीं कर पाएगा. ऐसा वरदान पाकर महिषासुर राक्षसों का राजा बन गया और उसने देवताओं पर आक्रमण कर दिया. देवता युद्ध हार गए और देवलोकर पर महिषासुर का राज हो गया. महिषासुर से रक्षा करने के लिए सभी देवताओं ने भगवान विष्णु के साथ आदि शक्ति की आराधना की. इस दौरान सभी देवताओं के शरीर से एक दिव्य रोशनी निकली जिसने देवी दुर्गा का रूप धारण कर लिया. शस्‍त्रों से सुसज्जित मां दुर्गा ने महिषासुर से नौ दिनों तक भीषण युद्ध करने के बाद 10वें दिन उसका वध कर दिया. दरसअल, महालया मां दुर्गा के धरती पर आगमन का द्योतक है. मां दुर्गा को शक्ति की देवी माना जाता है.

Navratri 2020: कोरोनावायरस महामारी के बीच ऐसे रखें व्रत, खुद को रख सकेंगे सुरक्षित

महालया कैसे मनाया जाता है ?

वैसे तो महालया बंगालियों का प्रमुख त्‍योहार है, लेकिन इसे देशभर में धूमधाम से मनाया जाता है. बंगाल के लोगों के लिए महालया पर्व का विशेष महत्‍व है. मां दुर्गा में आस्‍था रखने वाले लोग साल भर इस दिन का इंतजार करते हैं. महालया से ही दुर्गा पूजा की शुरुआत मानी जाती है. यह नवरात्रि और दुर्गा पूजा की के शुरुआत का प्रतीक है. मान्‍यता है कि महिषासुर नाम के राक्षस के सर्वनाश के लिए महालया के दिन मां दुर्गा का आह्वान किया गया था. कहा जाता है कि महलाया अमावस्‍या की सुबह सबसे पहले पितरों को विदाई दी जाती है. फिर शाम को मां दुर्गा कैलाश पर्वत से पृथ्‍वी लोक आती हैं और पूरे नौ दिनों तक यहां रहकर धरतीवासियों पर अपनी कृपा का अमृत बरसाती हैं.

महालया के दिन ही मूर्तिकार मां दुर्गा की आंखों को तैयार करते हैं. दरअसल, मां दुर्गा की मूर्ति बनाने वाले कारिगर यूं तो मूर्ति बनाने का काम महालया से कई दिन पहले से ही शुरू कर देते हैं. महालया के दिन तक सभी मूर्तियों को लगभग तैयार कर छोड़ दिया जाता है. महालया के दिन मूर्तिकार मां दुर्गा की आंखें बनाते हैं और उनमें रंग भरने का काम करते हैं. इस काम से पहले वह विशेष पूजा भी करते हैं. महालया के बाद ही मां दुर्गा की मूर्तियों को अंतिम रूप दे दिया जाता है और वह पंडालों की शोभा बढ़ाती हैं.

महालया पितृ पक्ष का आखिरी दिन भी है. इसे सर्व पितृ अमावस्‍या भी कहा जाता है. इस दिन सभी पितरों को याद कर उन्‍हें तर्पण दिया जाता है. मान्‍यता है कि ऐसा करने से पितरों की आत्‍मा तृप्‍त होती है और वह खुशी-खुशी विदा होते हैं. वहीं जिन पितरों के मरने की तिथि याद न हो या पता न हो तो सर्व पितृ अमावस्‍या (Pitru Amavasya) के दिन उन पितरों का श्राद्ध किया जाता है.

Navratri 2020: व्रत करने वालों के लिए फायदेमंद है सिंघाड़े के आटे का सेवन, जानें ये 5 जबरदस्त लाभ

नवरात्रि से जुड़ी बाकी खबरें

Shardiya Navratri 2020: 17 से नवरात्रि प्रारंभ, जानिए क्या हैं व्रत के नियम, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और कलश स्‍थापना

Navratri 2020: नवरात्रि पूजा, महत्त्व, तिथ‍ि, कहां, कैसे मनाया जाता है ये पर्व और स्पेशल व्रत रेसिपी, यहां जानें

Navratri 2020: जानिए, नवरात्रि में किस दिन, कौन सा रंग माना जाता है शुभ

Navratri 2020: क्या है नवरात्रि का महत्व, फलाहार व्रत में किन-किन चीजों का कर सकते हैं सेवन

Navratri 2020 Diet: नवरात्रि व्रत के दौरान हेल्दी रहने के लिए क्या, कब और कैसी डाइट का सेवन करना चाहिए? यहां जानें

Navratri 2020 Vrat Recipes: नवरात्रि में व्रत के लिए आलू से बनाएं ये 5 तरह के स्वादिष्ट व्यंजन

Navratri 2020: इस बार आपके नवरात्रि व्रत को स्पेशल बनाएंगी ये खास रे​सिपीज



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here